Written by: Pooja Narang, Shiksharth Fellow

मैं  छत्तीसगढ़ राज्य के बीजापुर जिला मे सरकारी स्कूल मे सरकारी संस्था और ग़ैरसरकारी संस्था   के साथ मिलकर कुछ स्कूल मे   काम करती हूँ| बीजापुर मे मुझे काम करते कुछ  महीने हो चुके थे पर कभी ऐसा  नहीं लगा की मैं किसी बाहर देश ( राज्य ) या बाहरी दुनिया से आयी हूँ पर फिर भी कभी कभी   कुछ लोग अटपटे सवाल पुछ भी लिया करते थे |

अगस्त के महीने में मुझे राखी पे घर जाना था , बीजापुर से रायपुर और रायपुर से दिल्ली। फिर दिल्ली से मेरी पंजाब जाने के लिए ट्रेन थी | मुझे  irctc के   sms  से पता चला की ट्रैन देरी से आने वाली है | इस वजह से मैं अपने किसी दोस्त के घर रुक गई जहा मेरी मुलाक़ात उसके पिता जी से हुई | वह दिल्ली मे CRPF (सेन्ट्रल रिज़र्व पुलिस फ़ोर्से ) मे नौकरी करते हैं | उनसे  मेरी  बातचीत शुरू हुई |उन्होंने मुझसे मेरी नौकरी और मैं कहाँ से आई हूँ  उसके  बारे मे  पूछा| तब  मैंने  उन्हें  बताया की मैं छत्तीसगढ़ बीजापुर से आई हूँ  |उन्होंने बीजापुर का नाम सुनते ही तुरंत से पूछा की मैं क्या वहां  कैंप में फाॅर्स के साथ ही रहती हूँ ? ये सवाल सुनकर मुझे अजीब लगा | मैं  तो यहाँ सोचने  लगी  कि  स्कूल मे काम करने वाले कैंप मे क्यों रुकेंगे ??? | क्या इन् स्थान पर कैंप के बाहर कोई ज़िन्दगी नहीं हैं क्या ???

एक बार मैं और मेरे कुछ साथी तीर्थ गढ़ नामक जलप्रपात पर घूमने गए थे |वहाँ से वापिस के समय हमें  गाड़ी  नहीं मिल रही थी| लेकिन  हमारे  एक साथी ने लिफ्ट के लिए हाथ किया पर कोई भी गाड़ी रुक नहीं रही थी पर कुछ समय बाद एक गाड़ी रुक  गयी| तो उस मे आगे की सीट पे एक सरदार जी जो गाड़ी चला रहे थे और उनके साथ एक और उनका साथी था | गाड़ी में बैठने के बाद कुछ बातचीत हुयी तो पता लगा कि वो भिलाई से है और वो यहाँ टायर बनाने वाली किसी कंपनी मे काम करते हैं उन्होंने हम कहा से है भी जाना ,मैंने बताया मैं पंजाब से हु वो हैरान हो कर बोले यहाँ वनवास काटने आए हो क्या ? क्या कुदरत के पास कुदरत के नज़दीक रहना वनवास हैं.??? क्या अपने ही किसी राज्य मे  गांव या किसी छोटी जगह मे रहना वनवास हैं???

मेरी एक मित्र जो की छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले के किसी राजिम गांव से ही है अक्सर पूछती है दीदी आप उस जंगल (बीजापुर) मे क्यों रह रहे हो वहाँ क्यों काम कर रहे हो ??? रायपुर आओ आपको संस्था मे नौकरी मिल जाएगी। अपना ही राज्य का ज़िला जंगल कहा जाता हैं  जहाँ कुल जनसंख्या 2,55,230 लगभग , 6 भाषाएँ बोली जाती  हैं (गोंडी, तेलुगु, डोरली, हिंदी, मराठी, हल्बी)… छोटी जगह में रहना सब की हस्सी का पात्र बनना हैं.???

एक बार मैं पंजाब से रायपुर रेलगाड़ी से सफर कर  रही थी मेरी सीट र.ए.सी मे थी मेरे साथ बिलासपुर जिले की एक दीदी अपनी बेटी के साथ थी |  साथ वाली सीट पे बजुर्ग अंकल रेलवे से रिटायर्ड  लुधिअना से और एक अपने आप को  काफी शिक्षित समझने वाला उम्र का बंदा और कुछ लोग छत्तीसगढ़ और उसके जिले बीजापुर,सुकमा के रहनसहन का ढंग , पढ़ाई आदि की बुराई करने लगे बहुत देर तक सुना पर रहा नहीं गया तो हम भी बोल पढ़े इन सब के लिए आप क्या कर रहे हो ?उस पे उल्टा वो जनाब हमारे बारे में जानने लगे जब बताया तो वो  बोलने लगे आपके माता पिता ने ऐसे कैसे यहाँ भेज दिया इतने जोख़िम वाले स्थान पे ??? आप क्या अपने आप को झाँसी की रानी समझते हो जो यहाँ ऐसे स्थान पे काम करने आए हो। दिल्ली पंजाब में  काम की कमी हैं क्या कोई? नौकरी नहीं है  क्या ? अपने ही देश के किसी जिले में अपने ही लोगो के लिए काम करने के बारे में सोचना या करना बहुत बड़ी बात हैं???

दिल्ली मैं अपने दोस्तों के साथ मेट्रो मे सफ़र कर रही साथ सीट पर छत्तीसगढ़ की एक लड़की अपने वहां के कुछ  दोस्तों के साथ  बैठी थी उन मे से एक दोस्त ने उस से कहा  अरे आप तो हम जैसे ही हो| 

 

Related Posts

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *